Category: साहित्य

प्रख्यात लेखिका पुष्पा भारती को व्यास सम्मान

मुम्बई । प्रख्यात लेखिका पुष्पा भारती को उनके संस्मरण ‘यादें, यादें और यादें’ के लिए 2023 का व्यास सम्मान दिया…

हिन्दी साहित्य भारती केन्द्रीय कार्यकारिणी की तीसरी बैठक 8 मार्च से उत्तराखण्ड में होगी

देहरादून । हिन्दी साहित्य भारती केन्द्रीय (अंतरराष्ट्रीय) कार्यकारिणी की तीसरी बैठक 8 मार्च 2024 से 10 मार्च, 2024 तक उत्तराखण्ड…

निज भाषा उन्नति अहै, सब उन्नति को मूल

-डॉ बसुन्धरा उपाध्याय,सहायक प्राध्यापक, हिंदी विभाग, लक्ष्मण सिंह महर परिसर पिथौरागढ़ उत्तराखंड। भारतवर्ष बहुभाषी देश है। भाषा की दृष्टि से…

हिन्दी दिवस विशेष: भूमंडलीकरण के दौर में हिंदी और अधिक सशक्त एवं समृद्ध हुई

✍️ डॉ. बसुन्धरा उपाध्याय, असिस्टेंट प्रोफेसर हिंदी विभाग लक्ष्मण सिंह महर राजकीय स्नातकोत्तर महाविद्यालय पिथौरागढ, उत्तराखंड। हिंदी को आज हम…

अमेरिका की संघीय वेबसाइट का हिंदी, गुजराती और पंजाबी भाषा में अनुवाद कराने की सिफारिश

वाशिंगटन। अमेरिका के राष्ट्रपति आयोग ने व्हाइट हाउस और अन्य संघीय एजेंसियों की वेबसाइट का एशियाई-अमेरिकी तथा प्रशांत क्षेत्र के…

आत्मनिर्भर भारत के लिए साहित्यिक प्रदूषण दूर करना आवश्यकः डा. शुक्ल

चम्पावत। हिन्दी साहित्य भारती (अंतरराष्ट्रीय), जनपद चम्पावत ईकाई के तत्वावधान में राजकीय बालिका इण्टर कॉलेज चम्पावत के सभागार में *बौद्धिक…

कुमाऊंनी पत्र संग्रह ‘अगास दूर न्हा’ का लोकार्पण

अल्मोड़ा। युवा लेखक डाॅ. पवनेश ठकुराठी के पत्र संग्रह ‘अगास दूर न्हा’ का लोकार्पण ‘पहरू’ के संपादक डॉ. हयात सिंह…

राष्ट्र की चेतना से साक्षात्कार करवाती है हिंदी भाषा

हिंदी भाषा के उन्नयन के लिए किसी अन्य भाषा का विरोध जरूरी नहीं है। भारतीय भाषाओं का प्रभुत्व बढ़ेगा तो…

हिंदी साहित्य भारती की केंद्रीय कार्यकारिणी की पहली बैठक में जुटे हिंदी के जानकार

हिंदी साहित्य भारती केंद्रीय कार्यकारिणी की पहली बैठक दिल्ली के हंस राज कॉलेज में शनिवार से शुरू हुई। इस बैठक…

14 अक्टूबर जयन्ती पर विशेषः भोगे हुए यथार्थ के कथाकार ‘शैलेश’

जुहू चौपाटी के किनारे बैठा हुआ वह शख्स रेत पर बैठे एक परिवार को लगातार घूरे जा रहा है। परिवार…

विश्व के 35 देशों में हिन्दी की उन्नति के लिए काम कर रहीं हिंदी साहित्य भारती: डॉ. रविंद्र शुक्ला

रूड़की/देहरादून (उत्तराखंड संवाद भारती)। हिंदी को राष्ट्रभाषा का आधिकारिक स्थान देकर वैश्विक धरातल पर हिंदी को सामर्थ्यवान बनाना हिंदी साहित्य…