Category: लेख

निज भाषा उन्नति अहै, सब उन्नति को मूल

-डॉ बसुन्धरा उपाध्याय,सहायक प्राध्यापक, हिंदी विभाग, लक्ष्मण सिंह महर परिसर पिथौरागढ़ उत्तराखंड। भारतवर्ष बहुभाषी देश है। भाषा की दृष्टि से…

समलैंगिक विवाह प्रकृति,समाज संस्कृति के विरुद्ध

✍️ कमल किशोर डुकलान ‘सरल’ समलैंगिक विवाह हमारी प्रकृति, देश, समाज, संस्कृति व धर्म के विरुद्ध ही नहीं है, बल्कि…

रामचरित मानस की समग्रता पर विचार करने की आवश्यकता

कमलकिशोर आजकल जिस तरह से रामचरित मानस की कुछ चौपाइयों पर हिन्दू समाज की वर्ण व्यवस्था पर सस्ती लोकप्रियता हासिल…

नेता जी सुभाषचन्द्र बोस का देश की स्वतंत्रता में अतुलनीय पराक्रम

✍️ कमल किशोर डुकलान नेताजी सुभाष चंद्र बोस, जो कि आजाद हिंद फौज के संस्थापक होने के साथ भारत की…

संघ की विश्व गुरु साधना

✍️ डॉ. दिलीप अग्निहोत्री राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के संस्थापक केशव बलिराम हेडगेवार युग द्रष्टा थे. वह महान स्वतंत्रता संग्राम सेनानी…

समाज में मनुष्य का मूकदर्शक बनना, मनोविज्ञान में बदलाव का नतीजा

✍️ कमल किशोर डुकलान, रुड़की राजस्थान के उदयपुर में घटित घटना यह दर्शाती है कि इतने वर्षों में समाज में…

देवभूमि की ‘महाभारत’ में ‘दुशासन’ ही ‘दुशासन’

⇒ योगेश भट्ट, वरिष्ठ पत्रकार। मौसम सियासी है तो जाहिर है बातें भी सियासी ही होंगी। आम चुनाव के बहाने…

न्याय, धर्म, सुशासन, राष्ट्रीयता के प्रतीक छत्रपति शिवाजी महाराज

हिंदुत्व और भारत माता के लिए समर्पित:- शिवाजी -कमलकिशोर डुकलान अखण्ड भारत के निर्माण में अपना सर्वस्व अर्पण करने वाले…

बोर्ड परीक्षा रद्द होने के बाद तर्कसंगत मूल्यांकन की दरकार

केन्द्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड के पैमाने के अनुसार स्कूली आंतरिक मूल्यांकन के अलावा पिछले तीन साल के बोर्ड परीक्षाओं में…

सनातन संस्कृति के मर्यादा पुरुषोत्तम राम

चैत्र नवरात्र और रामनवमी के उत्सव का सनातन संस्कृति के मर्यादा पुरुषोत्तम श्री राम के चरित्र से गहरा संबंध है।आदिशक्ति…

धरती की सूखती कोख, आसमान का हांफता रूप

प्रकृति के संरक्षण से ही पर्यावरण संरक्षित प्रकृति और पर्यावरण की वास्तविक चिंता सामाजिक संगठनों और सरकारी तंत्र के बजाए…